अपू के साथ ढाई साल | Apu-ke-saath-dhai-saal 

अपू के साथ ढाई साल (अभ्यास प्रश्न) | Apu-ke-saath-dhai-saal

अपू के साथ ढाई साल : इस फिल्म की शूटिंग लगातार नहीं की जा सकी थी क्योंकि लेखक के पास समय व पैसे का अभाव था। पैसे खत्म होने के बाद फिर से पैसा जमा करने तक शूटिंग को रोक दिया जाता था।

 Apu-ke-saath-dhai-saal | अपू के साथ ढाई साल

प्रश्न 1. ‘पथेर पाँचाली’ फिल्म की शूटिंग का काम ढाई साल तक क्यों चला?

‘पथेर पाँचाली’ फिल्म की शूटिंग में कई प्रकार की अड़चन आई। इस फिल्म की शूटिंग लगातार नहीं की जा सकी थी क्योंकि लेखक के पास समय व पैसे का अभाव था। पैसे खत्म होने के बाद फिर से पैसा जमा करने तक शूटिंग को रोक दिया जाता था। इसी प्रकार एक बार की घटना में जानवरों ने काशफूल खा लिए थे। जिसके कारण लगभग एक साल तक शूटिंग को रोकना पड़ा था। ‘भूलो’ कुत्ते की मृत्यु होने पर उस जैसा कुत्ता ढूंढने में समय लग गया। इस प्रकार काफी बाधाएँ आने के कारण इस फिल्म की शूटिंग का काम ढाई साल तक चला।

प्रश्न 2. अब अगर हम उस जगह बाकी आधे सीन की शूटिंग करते तो पहले आधे सीन के साथ उसका मेल कैसे बैठता? उसमें से कंटिन्यूटी नदारद हो जाती है। -इस कथन के पीछे क्या भाव है?

कथन उस समय का है जब फिल्म की शूटिंग काशफूलों से भरे मैदान के पास रेलवे मैदान पर की जानी थी। वहाँ आधे सीन की शूटिंग पूरी हो चुकी थी। जब आधे सीन की शूटिंग करके सात दिन के पश्चात उस स्थान पर गए तो देखा कि जानवरों ने उस मैदान को खा लिया था। ऐसे में उस स्थान पर शेष आधे सीन की शूटिंग करने से पहले की गई सीन की शूटिंग से मेल नहीं बैठ पाता था। उस सीन की शूटिंग शरद ऋतु तक रोक दी गई। लेखक ने इस कथन से शूटिंग की दौरान आई कठिनाइयों की ओर संकेत किया है।

प्रश्न 3. किन दो दृश्य में दर्शक यह पहचान नहीं पाते कि उनकी शूटिंग में कोई तरकीब अपनाई गई है?

‘भूलो’ कुत्ते की आधे सीन की शूटिंग हो चुकी थी। तभी किसी कारण ‘भूलो’ की मृत्यु हो गई। इसके बाद बचे हुए आधे सीन की शूटिंग किसी दूसरे कुत्ते से करवाई गई। एक अन्य सीन में ‘भूलो’ को अपू और दुर्गा के पीछे दौड़ना था। लेकिन कुत्ता अपने मालिक की बात भी नहीं मान रहा था। फिल्म और पैसे दोनों खराब हो रहे थे। लेखक को एक तरकीब सूझी। उसने दुर्गा के हाथ में थोड़ी मिठाई कुत्ते को दिखाकर भागने को कहा। फिल्म को देखने वाले इन दो दृश्यों को देखने से नहीं पहचान पाते कि फिल्म में कोई तरकीब अपनाई गई है।

प्रश्न 4. ‘भूलो’ की जगह दूसरा कुत्ता क्यों लाया गया? उसने फिल्म की किस दृश्य को पूरा किया?

फिल्म में एक दृश्य था कि अपू की माँ उसे भात खिला रही थी ‘भूलो’ कुत्ता दरवाजे के सामने बैठा अपू का भात खाना देख रहा था। अपू खेलते हुए खाना वहीं छोड़कर चला जाता है। तब उसकी माँ थाली में बचे हुए भात को गमले में डाल देती है लेकिन पैसे खत्म होने के कारण यह दृश्य उस दिन पूरा न हो सका। छः महीने के बाद शेष दृश्य को चित्रित करने गाँव में पहुँचे तो पता चला कि भूलो कुत्ता मर चुका है। उसी गाँव में ‘भूलो’ जैसा रंग, आकार का दूसरा कुत्ता मिल गया। अतः उस फैंके हुए भात को उसने खाया और दृश्य पूरा हुआ।

प्रश्न 5. फिल्म मे श्रीनिवास की क्या भूमिका थी और उनसे जुड़े बाकी दृश्यों को उनके गुजर जाने के बाद किस प्रकार फिल्माया गया?

फिल्म में श्रीनिवास की एक घूमते मिठाई वाले की भूमिका थी और उनके गुजर जाने के बाद एक ऐसे सज्जन को लिया गया जिनका चेहरा तो श्रीनिवास से नहीं मिलता था लेकिन शरीर से उनके जैसे ही थे। अगले दृश्य में दूसरा श्रीनिवास कैमरे की ओर पीठ करके मुखर्जी के घर में चला जाता है। इसके साथ ही दृश्य पूरा होता है।

प्रश्न 6. बारिश का दृश्य चरित्र करने में क्या मुश्किल आई और उसका समाधान किस प्रकार हुआ?

बारिश का दृश्य चित्रित करने में पैसों की कमी के कारण बहुत मुश्किल आई। पैसा न होने के कारण बरसात के दिन निकल गए व शूटिंग न हो पाई। पैसा इकट्ठा होने पर बरसात की प्रतीक्षा होने लगी। एक दिन शरद ऋतु में आसमान में बादल छाए और मूसलाधार बरसात हुई। उसी बारिश में वह दृश्य चित्रित हुआ।

प्रश्न 7. किसी फिल्म की शूटिंग करते वक्त फिल्मकार को किन समस्याओं का सामना करना पड़ता है, उन्हें सूचीबद्ध कीजिए।

फिल्मकार को फिल्म बनाते वक्त निम्नलिखित समस्याओं का सामना करना पड़ता है:

# सबसे पहले एक फिल्मकार को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ता है।

# अलग-अलग समय में एक ही दृश्य में आने वाली भिन्नता का सामना करना पड़ता है।

# बाल कलाकारों का शूटिंग अधिक समय तक चलने पर बढ़ जाने की समस्या।

# वृद्ध कलाकारों के चल बसने की समस्या।

# परिस्थिति व साधन की समस्या।

# कलाकार विशेषकर जानवरों को उचित प्रशिक्षण देने की समस्या।

 

इसे भी पढ़ें : Jamun Ka Ped Class 11 Question Answer : प्रश्न उत्तर

अपू के साथ ढाई साल (अभ्यास प्रश्न) | NCERT Solutions Apu ke saath dhai saal

प्रश्न 1: ‘अपू के साथ ढाई साल ‘संस्मरण का प्रतिपादय बताइए।

उत्तर- अपू के साथ ढाई साल नामक संस्मरण पथेर पांचाली फ़िल्म के अनुभवों से संबंधित है जिसका निर्माण भारतीय फ़िल्म के इतिहास में एक बड़ी घटना के रूप में दर्ज है। इससे फ़िल्म के सृजन और उनके व्याकरण से संबंधित कई बारीकियों का पता चलता है। यही नहीं, जो । फ़िल्मी दुनिया हमें अपने ग्लैमर से चुधियाती हुई जान पड़ती है, उसका एक ऐसा सच हमारे सामने आता है, जिसमें साधनहीनता के बीच अपनी कलादृष्टि को साकार करने का संघर्ष भी है।

यह पाठ मूल रूप से बांग्ला भाषा में लिखा गया है जिसका अनुवाद विलास गिते ने। किया है। किसी फिल्मकार के लिए उसकी पहली फ़िल्म एक अबूझ पहेली होती है। बनने या न बन पाने की अमूर्त शंकाओं से घिरी फ़िल्म पूरी होने पर ही फ़िल्मकार जन्म लेता है। पहली फ़िल्म के निर्माण के दौरान हर फ़िल्म निर्माता का अनुभव संसार इतना रोमांचकारी होता है कि वह उसके जीवन में बचपन की स्मृतियों की तरह हमेशा जीवंत बना रहता है। इस अनुभव संसार में दाखिल होना उस बेहतरीन फ़िल्म से गुजरने से कम नहीं है।

प्रश्न 2: ‘वास्तुसर्प’ क्या होता है। इससे लेखक का कार्य कब प्रभावित हुआ?

उत्तर- वास्तुसर्प वह होता है जो घर में रहता है। लेखक ने एक गाँव में मकान शूटिंग के लिए किराये पर लिया। इसी मकान के कुछ कमरों में शूटिंग का सामान था। एक कमरे में साउंड रिकार्डिग होती थी जहाँ भूपेन बाबू बैठते थे। वे साउंड की गुणवत्ता बताते थे। एक दिन उन्होंने उत्तर । नहीं दिया। जब लोग कमरे में पहुँचे तो साँप, कमरे की खिड़की से नीचे उतर रहा था। इसी डर से भूपेन ने जवाब नहीं दिया।

प्रश्न 3: सत्यजित राय को कौन-सा गाँव सर्वाधिक उपयुक्त लगा तथा क्यों?

उत्तर- सत्यजित राय को बोडाल गाँव शूटिंग के लिए सबसे उपयुक्त लगा। इस गाँव में अपू-दुर्गा का घर, अपू का स्कूल, गाँव के मैदान, खेत, आम के पेड़, बाँस की झुरमुट आदि सब कुछ गाँव में या आसपारा मिला।

प्रश्न 4: लेखक को धोबी के कारण क्या परेशानी होती थी?

उत्तर- लेखक बोडाल गाँव के जिस घर में शूटिंग करता था, उसके पड़ोस में एक धोबी रहता था। वह अकसर ‘भाइयो और बहनो!’ कहकर किसी राजनीतिक मामले पर लंबा चौड़ा भाषण शुरू कर देता था। शूटिंग के समय उसके भाषण से साउंड रिकार्डिंग का काम प्रभावित होता था। धोबी के रिश्तेदारों ने उसे सँभाला।

प्रश्न : 5 पुराने मकान में शूटिंग करते समय फिल्मकार को क्या-क्या कठिनाइयों आई?

उत्तर- पुराने मकान में शूटिंग करते समय फ़िल्मकार को निम्नलिखित कठिनाइयाँ आई-

(क) पुराना मकान खंडहर था। उसे ठीक कराने में काफी पैसा खर्च हुआ और एक महीना का वक्त लगा।

(ख) मकान के एक कमरे में साँप निकल आया जिसे देखकर आवाज रिकार्ड करने वाले की बोलती बंद हो गई।

प्रश्न : 6 ‘सुबोध दा’ कौन थे? उनका व्यवहार कैसा था?

उत्तर- ‘सुबोध दा’ 60-65 आयु का विक्षिप्त वृद्ध था। वह हर वक्त कुछ-न-कुछ बड़बड़ाता रहता था। पहले वह फ़िल्मबालों को मारने दौड़ता है, परंतु बाद में वह लेखक को वायलिन पर लोकगीतों की धुनें सुनाता है। वह आते-जाते व्यक्ति को रुजवेल्ट, चर्चिल, हिटलर, अब्दुल गफ्फार खान आदि कहता है। उसके अनुसार सभी पाजी और उसके दुश्मन हैं।

Apu-ke-saath-dhai-saal MCQ–अपू के साथ ढाई साल MCQ

1., ‘अपू के साथ ढाई सालपाठ के लेखक हैं-

A. प्रेमचंद
B. कृष्णा सोबती
C. सत्यजित राय
D. शेखर जोशी

ANSWER= C. सत्यजित राय

 

2. ‘पथेर पांचालीफ़िल्म की शूटिंग का काम कितने साल तक चला था?

A. एक साल तक
B. डेढ़ साल तक
C. दो साल तक
D. ढाई साल तक

ANSWER= D. ढाई साल तक

 

3. सत्यजित राय किस कंपनी में काम करते थे?

A. फ़िल्मी कंपनी
B. विज्ञापन कंपनी
C. स्टील कंपनी
D. बीमा कंपनी

ANSWER= B. विज्ञापन कंपनी

 

4. फ़िल्म का आरंभ करने से पहले कौन-से काम के लिए बड़ा आयोजन किया गया था?

A. धन एकत्रित करने का
B. फ़िल्म संबंधी सामान खरीदने का
C. कलाकार इकट्ठे करने का
D. फ़िल्म के लिए विज्ञापन देने का

ANSWER= C. कलाकार इकट्ठे करने का

 

5. अपू की भूमिका निभाने वाले लड़के का नाम है-

A. रणबीर मुखर्जी
B. सुबीर बनर्जी
C. राजबीर सिंह
D. राजेश चटर्जी

ANSWER= B. सुबीर बनर्जी

 

6. इंदिरा ठाकरुन की भूमिका निभाने वाली वृद्धा का नाम था-

A. मुन्नी बाई
B. बिमला रानी
C. चुन्नीबाला देवी
D. शशिकला

ANSWER= C. चुन्नीबाला देवी

 

7. चुन्नीबाला देवी की आयु थी-

A. अस्सी वर्ष
B. अठत्तर वर्ष
C. बयासी वर्ष
D. छियत्तर वर्ष

ANSWER= A. अस्सी वर्ष

 

8. रेलवे लाइन के समीप वाला मैदान कौन-से फूलों से भरा हुआ था?

A. गुलाब
B. काशफूल
C. गेंदे
D. कमल

ANSWER= B. काशफूल

 

9. फ़िल्म में अपू की माँ का क्या नाम था?

A. चुन्नीबाई देवी
B. सुशीला बनर्जी
C. सर्वजया
D. मोहनी बाला

ANSWER= C. सर्वजया

 

10. फ़िल्म में मिठाईवाले की भूमिका निभाने वाले का नाम है-

A. श्रीनिवास
B. कश्मीर
C. रामनिवास
D. देवी प्रसाद

ANSWER= A. श्रीनिवास

 

11. फ़िल्म में काम करने वाले पहले कुत्ते का नाम था-

A. शेरू
B. टोमी
C. लियो
D. भूलो

ANSWER= D. भूलो

12. सात दिनों के पश्चात् आने पर फ़िल्मकार शूटिंग आरंभ क्यों नहीं कर सका था?

A. धन के अभाव के कारण
B. अधिक गर्मी के कारण
C. जानवरों द्वारा काशफूल खाए जाने के कारण
D. कैमरा खराब होने के कारण

ANSWER= C. जानवरों द्वारा काशफूल खाए जाने के कारण

 

13.फ़िल्म निर्देशक ने वर्षा का सीन किस मास में लिया था?

A. जनवरी
B. मार्च
C. अगस्त
D. अक्तूबर

ANSWER= D. अक्तूबर

 

14. फ़िल्म में अपू का घर किस गाँव में दिखाया गया था?

A. पालसिट
B. गोपाल
C. बोडाल
D. नरसी ग्राम

ANSWER= C. बोडाल

 

15. ‘पुकुरका अर्थ है-

A. पोखर
B. नदी
C. नहर
D. सागर

ANSWER= A. पोखर

16. ‘सुबोध दाकिस गाँव का रहने वाला था?

A. गोपाल
B. बोडाल
C. पालसिट
D. जगरांव

ANSWER= B. बोडाल

17. साउंड रिकॉर्डिस्ट का नाम था-

A. सुबोध दा
B. अनिल बाबू
C. भूपेन बाबू
D. श्रीनिवास

ANSWER= C. भूपेन बाबू

1 thought on “अपू के साथ ढाई साल | Apu-ke-saath-dhai-saal ”

Leave a Comment

close