लोक साहित्य की विशेषताएँ

लोक साहित्य की विशेषताएँ

लोक साहित्य की विशेषताएँ लोक साहित्य की विशेषताएँ: लोक साहित्य वह साहित्य है जो जनमानस की चित्तवृत्तियों से संबंधित है।  यह मानव मन की उपज है। लोक साहित्य शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है  लोक और साहित्य।  लोक का अर्थ है जन सामान्य वर्ग और साहित्य का अर्थ है उस जन सामान्य वर्ग की संपूर्ण … Read more

ध्रुवस्वामिनी का चरित्र चित्रण

ध्रुवस्वामिनी का चरित्र चित्रण

ध्रुवस्वामिनी का चरित्र चित्रण ध्रुवस्वामिनी का चरित्र चित्रण : ध्रुवस्वामिनी जयशंकर प्रसाद कृत ध्रुवस्वामिनी नाटक का सबसे प्रमुख तथा केंद्रीय पात्र है । ध्रुवस्वामिनी का चरित्र चित्रण | dhruvswamini ka charitr chtran संपूर्ण नाटक की कथा ध्रुवस्वामिनी के इर्द-गिर्द घूमती है । वह चंद्रगुप्त की वाग्दत्ता पत्नी है लेकिन रामगुप्त शिखर स्वामी के षड्यंत्र से … Read more

लोक साहित्य का अर्थ एवं परिभाषाएँ

लोक साहित्य का अर्थ एवं परिभाषाएँ

लोक साहित्य का अर्थ एवं परिभाषाएँ। लोक साहित्य का अर्थ एवं परिभाषाएँ: साहित्य मानव मन की प्रतिछवि है।  यह मानव मन में आने वाले भाव,  उतार-चढ़ाव,  सामाजिक स्थितियों तथा विभिन्न परिस्थितियों का उद्घाटन करने का माध्यम है। साहित्य को दो वर्गों में विभाजित किया गया है, शिष्ट साहित्य और लोक साहित्य।  लोक साहित्य वास्तव में एक … Read more

हार की जीत कहानी 

हार की जीत

हार की जीत कहानी  | सुदर्शन हार की जीत कहानी हार की जीत कहानी : माँ को अपने बेटे, साहूकार को अपने देनदार और किसान को अपने लहलहाते खेत देखकर जो आनंद आता है, वही आनंद बाबा भारती को अपना घोड़ा देखकर आता था। भगवत-भजन से जो समय बचता, वह घोड़े को अर्पण हो जाता। … Read more

Sweetest Love BSEB Class 12 English Poem 1

BSEB Class 12 English Poem 1 Sweetest Love

Sweetest Love BSEB Class 12 English Poem 1 Summary, Explanation, and Question Answers BSEB Class 12 English Poem 1 Sweetest Love, I Do Not Goe Summary, and Question Answers from Rainbow Book Sweetest Love BSEB Class 12 English Poem 1 : Sweetest Love, I Do Not Goe Summary and detailed explanation of the poem along with … Read more

गुरु गोविंद सिंह का जीवन परिचय

गुरु गोविंद सिंह का जीवन परिचय

Guru Gobind Singh : गुरु गोविंद सिंह का जीवन परिचय गुरु गो‍बिंद सिंह जी सिखों के दसवें गुरु हैं। इनका जन्म पौष सुदी 7वीं सन् 1666 को पटना में माता गुजरी जी तथा पिता श्री गुरु तेगबहादुर जी के घर हुआ। उस समय गुरु तेगबहादुर जी बंगाल में थे। उन्हीं के वचनोंनुसार गुरुजी का नाम … Read more

शिक्षक दिवस पर शायरी

शिक्षक दिवस पर शायरी

शिक्षक दिवस पर शायरी (Shayari On Teachers Day In Hindi): टीचर्स के लिए टीचर्स डे पर बेहतरीन शायरियां शिक्षक दिवस पर शायरी (Shayari On Teachers Day In Hindi)- शिक्षक दिवस (Teachers Day) गुरु के प्रति सम्मान का दिन होता है। हमारे देश के पहले उप-राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने 5 सितंबर (5 September) … Read more

इंद्र जिमि जंभ पर व्याख्या

इंद्र जिमि जंभ पर व्याख्या

इंद्र जिमि जंभ पर व्याख्या | Indr jim jambh par baadav jyaun ambh par Bhushan Kavitt इंद्र जिमि जंभ पर व्याख्या इंद्र जिम जंभ पर बाड़व ज्यौं अंभ पर रावन सदंभ पर रघुकुलराज है। पौन बारिबाह पर संभु रतिनाह पर ज्यौं सहस्रबाहु पर राम द्विजराज है। दावा द्रुमदंड पर चीता मृगझुँड पर भूषन बितुंड पर … Read more

Poem on Hiroshima and Nagasaki in Hindi

Poem on Hiroshima and Nagasaki in Hindi

हिरोशिमा और नागासाकी पर कविता | Poem on Hiroshima and Nagasaki in Hindi Poem on Hiroshima and Nagasaki Day in Hindi – इस आर्टिकल में हिरोशिमा और नागासाकी दिवस पर कविता दी हुई है. इसे जरूर पढ़े और शेयर करें. अमेरिका द्वारा हिरोशिमा और नागासाकी पर गिराया गया परमाणु बम पूरे विश्व को याद है. मगर … Read more

हिंदी कक्षा 10 नाख़ून क्यों बढ़ते हैं

नाख़ून क्यों बढ़ते हैं

हिंदी कक्षा 10 नाख़ून क्यों बढ़ते हैं – Nakhun Kyon Badhte Hain नाख़ून क्यों बढ़ते हैं : इस पोस्‍ट में हम बिहार बोर्ड वर्ग 10 के हिन्‍दी के पाठ 4 (Nakhun Kyon Badhte Hain)  नाखून क्‍यों बढ़ते हैं के सारांश को पढेंगे, जिसके लेखक हजारी प्रसाद द्विवेदी हैं। नाखून क्यों बढ़ते हैं लेखक परिचय लेखक का नाम- हजारी प्रसाद द्विवेदी जन्म- 19 … Read more

close