चिर विजय की कामना ही

Chir Vijay Ki Kaamana hi-चिर विजय की कामना ही

चिर विजय की कामना ही
चिर विजय की कामना ही राष्ट्र का आधार है॥

जागते यह भाव ले जब सुप्त मानव
भागते हैं हारकर तब दुष्ट-दानव
विजय इच्छा चिर सनातन नित्य-अभिनव
आज की शत व्याधियों का श्रेष्ठतम उपचार है॥

शान्त-चिर-गम्भीर और जयिष्णु राघव
क्रान्तिकारी सर्वगुण सम्पन्न माधव
कर सके जिस तत्व से अरि का पराभव
वह विजय की कामना ही राष्ट्र का आधार है॥

दिया हमने छोड़ जब-जब चिर-विजय-व्रत
हुए तब पददलित पीड़ित और श्रीहत
छोड़ सम्भ्रम उसी पथ पर फिर बढ़े रथ
जहाँ बढ़ते जीत होती और रुकते हार है ॥

हो यही दृढ़ भाव अपना श्रेष्ठतम धन
आत्म गरिमायुक्त होवे राष्ट्र-जीवन
संगठन कि शक्ति का हो संघ दर्पण
निहित जिसमें राष्ट्र-पोषक भावना साकार है॥

English Transliteration; Chir Vijay Ki Kaamana hi

chir vijaya kī kāmanā hī
cira vijaya kī kāmanā hī rāṣṭra kā ādhāra hai ||

jāgate yaha bhāva le jaba supta mānava
bhāgate haiṁ hārakara taba duṣṭa-dānava
vijaya icchā cira sanātana nitya-abhinava
āja kī śata vyādhiyoṁ kā śreṣṭhatama upacāra hai ||

śānta-cira-gambhīra aura jayiṣṇu rāghava
krāntikārī sarvaguṇa sampanna mādhava
kara sake jisa tatva se ari kā parābhava
vaha vijaya kī kāmanā hī rāṣṭra kā ādhāra hai ||

diyā hamane choṛa jaba-jaba cira-vijaya-vrata
hue taba padadalita pīṛita aura śrīhata
choṛa sambhrama usī patha para phira baṛhe ratha
jahā baṛhate jīta hotī aura rukate hāra hai ||

ho yahī dṛṛha bhāva apanā śreṣṭhatama dhana
ātma garimāyukta hove rāṣṭra-jīvana
saṁgaṭhana ki śakti kā ho saṁgha darpaṇa
nihita jisameṁ rāṣṭra-poṣaka bhāvanā sākāra hai ||

इसे भी पढ़ें : अभिमन्यु का जीवन परिचय

close