Essay on yoga for humanity in Hindi

[ 600 शब्द ] Essay on yoga for humanity in Hindi – Yoga for humanity par nibandh Hindi mein

Essay on yoga for humanity in Hindi : Today, we are sharing Simple essay on yoga for humanity in Hindi. This article can help the students who are looking for Long essay on yoga for humanity in Hindi. This is the simple and short essay on yoga for humanity which is very easy to understand it line by line. The level of this article is mid-level so, it will be helpful for small and big student and they can easily write on this topic. This Long essay on yoga for humanity is generally useful for class 5, class 6, and class 7, class 8, 9, 10.

Essay on yoga for humanity in Hindi – yoga for humanity par nibandh Hindi mein

परिचय:- जैसा की हम जानते है योग के कई स्वास्थ्य लाभ है। इसलिए लोगों के बीच इसका प्रचार प्रसार के लिए हर वर्ष 21 जून को पुरे विश्व में योग दिवस मनाया जाता है। इसे मानाने के लिए प्रत्येक देश द्वारा हर साल इसे एक विषय( थीम ) से जोड़ा जाता है। पिछले साल यानि की 2021 में भारत में, योग दिवस का थीम “स्वास्थ्य के लिए योग (Yoga for health)” था।

और इस वर्ष यानि की 2022 में योग दिवस का थीम “मानवता के लिए योग (Yoga for Humanity)” है। जिस तरह कोरोना महामारी में योग का अभ्यास महामारी को मात दिया, इससे यह साबित होता है की मानवता के लिए योग एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। हमें योग को अपने जीवन में अनिवार्यतापूर्ण प्रतिबद्ध करने की जरुरत है।

मानवता के लिए योग क्यों जरुरी :- जिस तरह से हमारा वातावरण और हमारी जीवन शैली बदल रहा है उसमे हम अकसर बीमार पड़ते रहते है। और कभी – कभी पुरे दुनिया में ऐसी महामारी भी जन्म लेती है जो करोड़ों लोगों की जान ले लेती है। हम बीमारी या किसी महामारी की चपेट में तभी आते है जब हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है।

केवल योग की सहायता से हम अपने अन्दर रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकते है। जब हमारे शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता होगी तो चाहे कोई भी महामारी या छोटी-मोटी बीमारी आ जाय वह हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकती। हाल के कोरोना महामारी में देखा गया लोग इतनी अधीक संख्या में बीमार हो रहे थे की लोगों के इलाज के लिए अस्पताल कम पड़ गये थे।

जिसके कारण मानवता को इस महामारी से काफी क्षति पहुची। इसलिए हमें आज से ही योग के लिए पर्तिबध बनाना होगा हर दिन योग का अभ्यास करना होगा ऐसा कर के वास्तव में हम मानवता को बचा सकते है।

योग सफलता की कुंजी है:- योग हमारे जीवन में शांति और एकाग्रता लाता है जिससे हम किसी भी विषय या लक्ष्य पर केन्द्रित रह सकते है। अगर हम अपने लक्ष्य पर लगातार सालों तक फोकस रहे तो हम जल्द ही सफलता की बुलंदी को प्राप्त कर सकते है। योग से हमारा तन और मन दोनों स्वस्थ रहते है अगर हमारा तन और मन दोनों स्वस्थ हो तो हमें किसी भी काम को करने में आलास नहीं होता और हर काम समय पर हो जाता है।

इसके ठीक विपरीत अस्वस्थ व्यक्ति किसी भी काम पर अपना ध्यान केन्द्रित नहीं कर पाता जिसके कारण वह अपने जीवन में असफल हो जाता है। वैसा व्यक्ति जल्दी ही बूढा होकर जल्दी मर जाता है।

योग दिवस का विश्व पर प्रभाव :- योग दिवस न केवल भारत में बल्कि पुरे विश्व में 21 जून को मनाया जाता है। विश्व स्तर पर भारत को योग का देश माना जाता है। योग की सुरुआत भारत देश से ही हुई थी। योग की उपयोगिता को देखते हुए भारत के प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के सुझाव पर योग दिवस पुरे विश्व में मनाया जाने लगा।

मोदी जी ने योग दिवस का प्रस्ताव संयुक्त राष्ट्र के महासभा में दिया था जिसके बाद यह प्रस्ताव पारित कर संयुक्त राष्ट्र द्वारा इसे विश्व स्तर पर मानाने की घोषणा की गई। योग को सभी देशों द्वारा अपनाया गया और अन्य देशों के नागरिक भी इसका लाभ ले पा रहे है।

निषकर्ष :- योग किसी व्यक्ति विशेष के लिए नहीं बल्कि पुरे मानव जाती के लिए महत्वपूर्ण है। इसका नियमित अभ्यास लोगों को महामारियों और अन्य बिमारियों से लड़ने के लिए शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाता है। हमें इसका अभ्यास आज से ही शुरू करनी चाहिए और इसक प्रचार प्रसार भी लोगों में करना चाहिए अगर हमारे एक सुझाव से कोई योग सुरु कर अपने स्वास्थ को ठीक करता है तो यह हमारे लिए गर्व की बात होगी।

इसे भी पढ़ें :  मोबाइल फोन का महत्व

4 thoughts on “Essay on yoga for humanity in Hindi”

Leave a Comment

close